Author: समोसा

छोटे शहर का प्यार

  मेरी प्यारी बर्फी, कुतुबखाने से निकलकर घंटाघर के रास्ते कोतवाली से होते हुए आज फिर गुज़रा। पुराने बस अड्डे से आगरा की बस पकड़नी थी। सालों बाद काम के बहाने ही सही मौका तो मिला मुझे वापस आने का, अपने...

कविता लिखने की कला

प्रिय मित्र, जितना मैं जानता हूँ, कविता का सबसे आसान अर्थ है कविता कल्पना और विचार का तालमेल है। आप समझ गए होंगे कि मैं क्या कहना चाह रहा हूँ। दरअसल इस संसार के सभी मनुष्यों के पास कल्पना होती ही...